क्या आपको पता है कि महाराष्ट्र में है दूसरा Taj Mahal, जानिये

This Is India Second Taj Mahal Bibi Ka Maqbara Taj Of South | यहां मौजूद है देश का दूसरा ताज महल, पीली पड़ रही हैं इसकी दीवारें

Bibi ka maqbara the second Tajmahal of india

आपको आर्टिकल का टाइटल पढ़कर ऐसा लगा होगा कि शायद कोई आपसे मजाक कर रहा है। यदि आपने ये ही सोचा तो आप गलत हैं।  आपको बता दें कि भारत (India) में सच में दूसरा ताजमहल (Tajmahal) है । चलिए आपको खुलासा डॉट इन में विस्तार से बताते है :

शाहजहां के पोते ने बनवाया दूसरा ताजमहल

जिस तरह शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज के लिए आगरा (Agra) में ताजमहल (Taj mahal) बनवाया था, ठीक उसी प्रकार से औरंगजेब (Aurangzeb)  के बेटे यानि कि शाहजहां के पोते आजम शाह (Azam shah) ने भी अपनी मां दिलरास बानो बेगम (Dilras banu begum) की याद में बीबी का मकबरा (Bibi ka Maqbara) बनवाया था, जो कि महाराष्ट्र के औरंगाबाद (Aurngabad) में स्थित है । आजम शाह ने इसका निर्माण 1651 से 1661 ईसवीं के बीच करवाया था । चूँकि यह देखने में ताज महल (Taj Mahal) जैसा ही लगता है अत: इसे भारत का दूसरा ताजमहल के नाम से भी पुकारा जाता हैं ।


दूसरा ताजमहल बनवाने में आया था 7 लाख का खर्च

मान्यताओ के अनुसार दूसरे ताज महल (Second Taj Mahal) को बनवाने में 700,000 रुपए का खर्चा आया था । आपको बता देँ कि असली ताजमहल को बनवाने में 3.20 करोड़ रुपए खर्चा उस समय में आया था । चूँकि बीबी का मकबरा (Bibi ka Maqbara) असली ताज महल से आधे से भी कम रकम में बनके तैयार हुआ था अत: इसे ‘गरीबों का ताजमहल’ के नाम से भी जाना जाता है ।

आपको दोनों ताज महल में एक अंतर और बता दे कि आगरा के ताजमहल को जहाँ शुद्ध सफेद संगमरमर द्वारा तैयार करवाया गया था, तो दूसरी तरफ बीबी का मकबरा का मात्र गुम्बद वाला भाग संगमरमर से बना हुआ है तथा बाकी पूरे मकबरे को प्लास्टर की मदद से तैयार करवाया गया है । ऐसा इसलिए किया गया था ताकि बीबी का मकबरा भी दिखने में संगमरमर से बना हुआ प्रतीत हो ।

आसपास में और भी कई जगहें हैं देखने लायक

अगर यहाँ कुछ देखने लायक है तो वो है बीबी का मकबरा (Bibi ka Maqbara) के आस पास मौजदू सुंदर गार्डन, पॉन्ड्स, फव्वारे, झरने । यहाँ मौजूद गार्डन की दीवारे काफी ऊंची है तथा यहाँ एक पाथ-वे भी मौजूद है । गार्डन की दीवारें को इसलिए ऊंचा बनाया गया था ताकि बाहर से कोई अंदर ताका झाकी न कर सके ।

कैसे पहुंचे

सिटी ऑफ गेट के नाम से मशहूर औरंगाबाद (Aurngabad) से यहाँ आने के लिए बस से बेहद कम कीमत में यहाँ पहुँच सकते हैं । इसलिए अलावा यहाँ शहर-भ्रमण हेतु कई बसें चलती है, जो यहाँ आने वालो को पूरे शहर में घूमाती हैं । यहाँ से सबसे नजदीक रेलवे स्टेशन भी 120 किमी. दूरी पर स्थित है, जिसका नाम मनमाद रेलवे स्टेशन है । इसके अतिरिक्त यहाँ आने के लिए प्राइवेट टैक्सी की भी सुविधा उपलब्ध है।

गर्मियों में न आएं यहां

आपको पहले ही बता दे कि यदि आप यहाँ आने के प्रोग्राम बना रहे है तो भूलकर भी गर्मियों के मौसम में यहाँ न आये । यहाँ बेहद ही तेज़ व शरीर को नुकसान पहुँचाने वाली गर्मी पड़ती है । यहाँ आने के लिए सर्दियों का मौसम सबसे अच्छा है, क्योंकि उस वक़्त यहाँ का न्यूनतम  तापमान भी 10 डिग्री सेल्सियस होता है। चाहे तो यहाँ आने के लिए आप मानसून के समय में भी आ सकते हैं ।

चलते चलते आपको एक बात और बता दे कि बीबी का मकबरा देखने के लिए यहाँ 10 रुपए का टिकट भारतीयों व 250 रुपए का टिकट विदेशी नागरिकों के लिए है ।

 

मिनी खुजराहों के नाम से मशहूर है मराठों का ये शहर

प्रकृति की गोद में बसा है युवाओं का स्विटजरलैंड

छुट्टियां बिताने के लिए ये देश भारत से भी सस्ते हैं

 


Read all Latest Post on यात्रा yatra in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: do you know that maharashtra is the second taj mahal called bibi ka maqbara in Hindi  | In Category: यात्रा yatra

Next Post

जड़ीबूटियों की पुल्टिस देती है कई बीमारियों में चमत्कारिक लाभ

Wed Sep 11 , 2019
What is an herbal poultice in hindi शरीर की समस्याओ व किसी संक्रमण से बचाव के लिए हर्ब (Herbal) व अन्य कई प्रकार की जडीबुटी (Jadibuti) को पीसकर या उसका लेप बनाकर शरीर पर लगाना पुल्टिस या प्रलेप लगाना कहलाता है । यह बहुत पुरानी और असरदार घरेलू चिकित्सा प्रणाली […]
What is an herbal poultice in hindiWhat is an herbal poultice in hindi

All Post


Leave a Reply

error: खुलासा डॉट इन khulasaa.in, वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख कॉपीराइट के अधीन हैं। यदि कोई संस्था या व्यक्ति, इसमें प्रकाशित किसी भी अंश ,लेख व चित्र का प्रयोग,नकल, पुनर्प्रकाशन, खुलासा डॉट इन khulasaa.in के संचालक के अनुमति के बिना करता है , तो यह गैरकानूनी व कॉपीराइट का उल्ल्ंघन है। यदि कोई व्यक्ति या संस्था करती हैं तो ऐसा करने वाला व्यक्ति या संस्था पर खुलासा डॉट इन कॉपी राइट एक्त के तहत वाद दायर कर सकती है जिसका सारे हर्जे खर्चे का उत्तरदायी भी नियम का उल्लघन करने वाला व्यक्ति होगा।