Uttarakhand tourist places in hindi: गर्मियों की छुट्टियों में ठंडी जगहों पर जाने से बेहतर क्‍या होगा। ऐसे में दिल्‍ली वालों के लिए उत्‍तरांचल ही वह जगह है जहां आपको सबसे ज्‍यादा मजा आएगा। ऋषिकेश के अलावा यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ, ब्रदीनाथ, ऑली जोशीमठ आदि की सैर की जा सकती है।

हरिद्वार (Haridwar)

Haridwar
Haridwar

हरिद्वार को देवताओं के घर का प्रवेश द्वार भी माना जाता है। सनातन धर्म में इस स्थान का विशेष महत्व है। यहां से निकलकर गंगा नदी मैदानी क्षेत्रों में प्रवेश करती है। गंगा के उत्तरी भाग में बसे हुए बदरीनाथ और केदारनाथ जाने का मार्ग भी यहीं से होकर गुजरता है। इसीलिए इसे हरिद्वार या हरद्वार नाम से जाना जाता है। हरिद्वार का पौराणाकि नाम मायापुरी था। महाभारत काल में इस इलाके को गंगाद्वार नाम से जाना जाता था।

Rishikesh (ऋषिकेश )

rishikesh

ऋषिकेश एक आध्यात्मिक शहर है। इसे सागों की जगह के नाम से भी जाना जाता है। यह चंद्रबाथा और गंगा के संगम पर हरिद्वार से 24 किलोमीटर की ऊंचाई पर स्थित है। ऋषिकेश को चारधाम यात्रा के प्रारंभिक बिंदु के रूप में जाना जाता है। यहां पर भारत पुष्कर मंदिर, शत्रुघ्न मंदिर, लख्संमान मंदिर, गीता भवन आदि प्रमुख जगह हैं। यहां पर स्थित त्रिवेणी घाट पर एक स्नानघड़ी है जो आरती के साथ घूमती है। मां गंगा की आरती के का यहां विशेष रूप से महत्व है।

यमनोत्री (Yamunotri)

Yamunotri

यमनोत्री उत्तराखंड का एक प्रमुख स्थान है। धार्मिक रूप से इस स्थान की बहुत मान्यता है। यमुनोत्री मुख्य रूप से पवित्र यमुना नदी का उद्गम स्थल है, तथा बंदर पुंछ पर्वत पर समुद्र तल से करीब 3293 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। इस स्थान को उत्तराखंड के चार धाम में मुख्य रूप से गिना जाता है। यमुना नदी समुद्र तल से 4421 मीटर की ऊंचाई पर स्थित चम्पासर ग्लेशियर से निकलती है। यमुनोत्री तक पहुंचना काफी मुश्किल माना जाता है। यह स्थान भारत चीन सीमा के करीब है। हरिद्वार से यमुनोत्री तक पहुंचने में करीब एक दिन लगता है तथा यह मार्ग घने जंगलों से होकर गुजरता है। भक्त किराए के घोड़े और खच्चरों से मंदिर तक पहुंच सकते हैं।

गंगोत्री (Gangotri)

Gangotri-temple

उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिने में स्थित गंगोत्री एक लोकप्रिय जगह है। गंगोत्री को गंगा नदी के उद्गम स्थान के रूप में भी जाना जाता है। यह समुद्र तल से करीब 3750 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। गांगोत्री भागीरथी नदी के तट पर बसा हुआ है। पौराणिक मान्यता है कि यह वही स्थान है जहां पर भगीरथ ने महादेव की तपस्या करके मां गंगा को जमीन पर उतरवाया था। गंगा नदी का उद्गम स्थल गौमुख गंगोत्री से 19 किमी की दूरी पर स्थित है। गंगा नदी को भागीरथी के नाम से भी जाना जाता है। गंगोत्री को चार धाम में एक प्रमुख स्थान के रूप में जाना जाता है।

केदारनाथ धाम (Kedarnath Dham)

kedarnath-temple

उत्तराखंड में स्थित केदारनाथ धाम का सनातन धर्म में बहुत महात्मय है। केदारनाथ मंदिर रुद्रप्रयाग जिले में स्थित है। हिमालय की गोद में बसा केदारनाथ ज्योतिर्लिंग को चार धाम और पंच केदार में विशेष स्थान प्राप्त है। केदारनाथ धाम मंदिर तीन तरफ से पहाड़ों से घिरा है। यहां पर प्रमुख नदिया हैं मंदाकिनी, मधुगंगा, क्षीरगंगा, सरस्वती और स्वर्णगौरी। केदारनाथ धाम के केदारेश्वर धाम के नाम से भी जाना जाता है।

बद्रीनाथ (Badrinath)

Badrinath Mandir

उत्तराखंड के प्रमुख तीर्थस्थलों में बद्रीनाथ को विशेष स्थान प्राप्त है। ब्रदीनाथ में बद्रीनाथ या बद्रीनारायण का मंदिर है। यह मंदिर विष्णु भगवान को समर्पित है। इस मंदिर में बिना जाए चार धाम की यात्रा को पूर्ण नहीं माना जाता है। बद्रीनाथ अलकनंदा नदी के बाए तट पर स्थित है। यहां नर और नारायण नामक दो पर्वत श्रेणियों के बीच में स्थित है। ब्रदीनाथ ऋषिकेश से 214 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

हेमकुंड साहिब (Hemkund Sahib)

Hemkund Sahib

हिमालय की गोद में स्थित हेमकुंड साहिब सिक्खों के प्रमुख तीर्थस्थलों में से एक है। इसे सिक्खों के सबसे पवित्र मंदिर के रूप में भी जाना जाता है। माना जाता है कि यहां पर सिक्खों के दसवें गुरु श्री गुरु गोविंद सिंह जी ने ध्यान साधना की थी। इस जगह को बहुत श्रद्धा की नजरों से देखा जाता है। इस तीर्थ स्थान को सिक्ख तीर्थ में सबसे कठिन तीर्थ के रूप में देखा जाता है। 15 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित हेमकुंड साहिब ग्लेशियरों से घिरा रहता है। इन्हीं हिमनदों का बर्फीला पानी जिस जलकुंड का निर्माण करता है उसे हेमकुंड यानि बर्फ का कुंड भी कहा जाता है।

जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्वान (Jim Corbett National Park)

Jim Corbett National Park
उत्तराखंड का एक प्रमुख स्थान जिम कॉबेट राष्ट्रीय उद्वान रामनगर के पास स्थित है। इस उद्वान को बाघों के लिए स्वर्ग भी कहा जाता है। इस उद्यान का नाम दिग्गज शिकारी जिम कॉर्बेट के नाम पर किया गया। इसकी स्थापना उत्तराखड राज्य में 1936 में की गई थी। जिम कॉर्बेट उत्तराखंड जिले के नैनीताल जिले में स्थित है। प्रॉजेक्ट टाइगर के तहत आने वाला यह पहला उद्वान है। इसका क्षेत्रफल 520.82 वर्ग मील में फैला है।

लैंसडाउन (Lansdowne)

Lansdowne
उत्तराखंड राज्य के पौढ़ी गढ़वाल में स्थित लैंसडाउन एक बहुत ही खूबसूरत शहर है। समुद्र तल से इसकी ऊंचाई करीब 1706 मीटर है। यहां साल भर मौसम सुहावना बना रहता है। लैंसडाउन को अंग्रेजों ने वर्ष 1887 में बसाया था। उस समय के तात्कालिक वायरस लॉर्ड लैंसडाउन के नाम पर ही इस शहर का नाम लैंसडाउन रखा गया। लैंसडाउन में आप गढ़वाल राइफल्स वॉर मेमोरियल और रेजिमेंट म्यूजियम देख सकते हैं। यह शहर स्वतंत्रता आंदोलन का गवाह भी रह चुका है।

 

 

Read all Latest Post on खेल sports in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें